HomeknowledgeFull Form of ATM-ATM क्या है और इससे पैसे कैसे निकालते है

Full Form of ATM-ATM क्या है और इससे पैसे कैसे निकालते है

Full form of ATM ? आज के समय में एटीएम एक साधन बन गया है जिसकी मदद से आप बिना बैंक में प्रवेश के भी आसानी से पैसे ट्रांसफर, बैलेंस चैक, पैसे निकालने जैसे कार्य कर सकते है।

एटीएम के बारे में तो आज सभी जानते ही है की एटीएम क्या है और एटीएम से पैसे कैसे निकालते है, यदि आप नही जानते तो कोई बात नही आपको आज इस आर्टिकल में एटीएम की सम्पूर्ण जानकारी दी जाएगी जैसे की एटीएम क्या है, इसकी फुल फॉर्म क्या है, इससे पैसे कैसे निकाले जाते है।

Full form of ATM

full form of ATM – Automated teller machine

ATM full form in Hindi –  स्वचालित टेलर मशीन

Automated teller machine एक automatic banking machine है जिसमे आप बिना किसी cashier, clerk और रसीद के भी आसानी से ओर कुछ मिनटों में ही पैसे अपने बैंक खाते से निकाल सकते है।

ATM क्या है what is the ATM in Hindi

स्वचालित टेलर मशीन को आटोमेटिक बैंकिंग मशीन, केश पॉइंट, any time money जैसे नमो से भी जाना जाता है, ऑटोमेटेड टेलर मशीन एक स्वचालित उपकरण है जिसे बैंक द्वारा लगाया जाता है इसमें बैंक खाताधारक को एक प्लास्टिक कार्ड देता है जिसे एटीएम कार्ड या डेबिट कार्ड कहते है, इस कार्ड को खाताधारक एटीएम में लगाकर आसानी से पैसो का लेन देन कर सकता है।

इस लेन देन में खाताधारक को किसी भी पेपर वर्क आदि की आवस्यकता नही होती है, ATM से पेसो का लेने देन करने के लिए बैंक द्वारा खाताधारक को एटीएम कार्ड के साथ एक 4 अंको का पिन भी दिया जाता है जिसे पेसो के लेनदेन से पहले एटीएम में डालना होता है।

एटीएम कार्ड में एक काली स्ट्रिप होती है जिसमे खाताधारक से जुड़ी कुछ जरूरी जनकरिया होती है जिसे केवल एटीएम द्वारा ही पड़ा जाता है, आजकल के एटीएम कार्ड में धातु चिप लगी होती है जिसमे कार्ड से जुड़ी जनकारिया होती है।

एटीएम से पैसे कैसे निकाले

एटीएम क्या है और Full form of ATM तो आप जान ही गए होंगे अब आपको हम यह जानकारी देते है कि एटीएम से पैसे कैसे निकाले जाते है।
एटीएम से पैसे निकालने के लिए आपको निम्न steps को फॉलो करना होता है –

1. आपका जिस बैंक मैं खाता है अधिकतर आपको उसी बैंक के एटीएम मैं जाना चाहिए , या आप किसी अन्य बैंक के एटीएम का भी उपयोग कर सकते है।

2. एटीएम कार्ड को एटीएम में डालकर 2-3 सेकंड में वापस निकाल ले यदि वह किसी प्रकार के ऑप्शन नही देता है आपको पुनः एटीएम कार्ड को एटीएम मै डालना होगा।

3. एटीएम कार्ड को रीड करने के बाद पहला option भासा चयन करने का होता है जिसमें आपको हिंदी, इंग्लिश के साथ अन्य भाषाये भी होती है जिसमे आप अपनी सुविधानुसार भासा चुन सकते है।

4. भासा चयन करने के बाद आपको पिन enter करना होता है जो कि 4 अंको का होता है।(बैंक द्वारा दिया जाता है)

5. पिन डालने के पश्चात आपको अपंने कहते का प्रकार बताना होगा जिसमे आपको saving, current, fixed जैसे ऑप्शन मिलेंगे , इसमे आप अपनी बैंक द्वारा दिये गए ऑप्शन पर click करे।

6. अब आपके सामने बहुत से option होंगे जिसमें आपको पैसे निकालना , बैलेंस चेक , पैसे transfer करना इत्यादि होते है जिसमे आपको withdrawal वाले ऑप्शन पर क्लिक करना होता है।

7. अब आप जितने पैसे निकालना चाहते है उतने पैसे आप enter कर सकते है और payment confirm कर सकते है।

8. ATM screen के नीचे आपको एक आयताकार छेद होगा जिसमें से पैसे बाहर आते है इन पेसो के बाहर आते ही इन्हें हाथो से पकड़ लेना होता है वरना यह वापस एटीएम में चले जाते है।

9. आप अपने खाते मैं से उतने ही पैसे निकाल सकते है जितने उसमे होंगे।

10. इसी प्रकार आपका पहला transaction पूरा हो जाता है और आपको यदि ओर पैसे निकालना है तो आप इन्ही स्टैप्स का दुबारा फॉलो करे।

ATM का इतिहास

Automated teller machine को सन 1960 में john shepherd Barron द्वारा बनाया गया था और उसके पश्चात आधुनिक ATM मशीन की सबसे पहली पीढ़ी का उपयोग 27 जून 1967 में लंदन के बार्केले बैंक ने किया था।

John Barron एटीएम का पिन 6 अंको का रखना चाहते थे लेकिन उनकी पत्नी द्वारा उसे 4 अंको का रखने के लिए कहा गया क्योंकि 6 अंको के पिन को याद रख पाना सबके लिए कठिन था।

एटीएम उपयोग करते समय सावधानियां

1. एटीएम कार्ड के पिन को एटीएम मशीन के अलावा किसी भी अन्य व्यक्ति, machine, app आदि में शेयर न करे।

2. एटीएम कार्ड एक बहुत ही जरूरी कार्ड होता है जिसमे आपके पैसे सुरक्षित होते है इसलिए उसे संभाल कर रखे।

3. आजकल फ़ोन call के माध्यम से आपकी बैंक का नाम बताकर आपसे आपकी एटीएम जानकारी ले ली जाती हैं, जो कि गैरकानूनी है, आपको ऐसी किसी भी प्रकार की जानकारी बैंक द्वारा आपसे नही मांगी जाती।

4. एटीएम से पैसे निकालते समय आपके साथ कोई भी अनजान व्यक्ति नही होना चाहिए या किसी भी व्यक्ति द्वारा आपका एटीएम पिन या किसी भी प्रकार की जानकारी नही देखी जानी चाहिए।

5. एटीएम कार्ड घूम हो जाने पर तुरंत बैंक से संपर्क करके अपने कार्ड को ब्लॉक करवाये।

ATM के लाभ(Benefits of ATM)

1. एटीएम मशीन द्वारा बहोत ही सरल और कम समय में पेसो का लेन देन किया जा सकता है|

2. आजकल एटीएम मशीन आपको सभी banks में मिल जाती है और साथ ही अब अलग अलग स्थानों पर भी एटीएम मशीन आपको मिल जाती है।

3. इसमे आप बिना किसी पेपर वर्क के पैसे निकालने, पैसे ट्रांसफर करने , बैंक बैलेंस चेक करने जैसे काम कर सकते है।

4. ATM द्वारा आप अपने बिजली बिल ओर अन्य सभी प्रकार के बिल का भुगतान कर सकते है।

5. आज कल आप एटीएम से पैसे निकालने के अलावा एटीएम में पैसे डाल भी सकते है जिसे cash deposit कहते है।

First ATM in India

1987 मैं भारत में पहली बार एटीएम सुविधा को लाया गया था, भारत के पहला ATM हॉंगकॉंग एंड संघाई बैंकिंग कारपोरेशन (NSBC) ने मुम्बई में लगाया था।

मैं आसा करता हु की आपको एटीएम क्या है और Full form of ATM आदि की जानकारी पसंद आयी होगी , इसे सेयर जरूर करे और हमे कमेंट करकेँ जरूर बताये|

Jitendra Aakde
Jitendra Aakdehttps://jitubaba.com
Welcome दोस्तों, मैं jitubaba का Author हूँ. मैं एक Computer Engineer हूँ. मुझे नए नए ज्ञान को प्राप्त करना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मैं आपसे निवेदन करता हु की आप इसी तरह मेरा सहयोग देते रहिये और मैं आपके लिए इसी प्रकार की नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाता रहूँगा| धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here