HomeBiographyगंगूबाई काठियावाड़ी की असली कहानी क्या है | Gangubai Kathiawadi Real Story

गंगूबाई काठियावाड़ी की असली कहानी क्या है | Gangubai Kathiawadi Real Story

मैं जानता हूं कि आप सब ने गंगूबाई काठियावाड़ी फिल्म के बारे में तो सुना ही होगा जो 25 फरवरी को सिनेमा घरो मैं आने वाली है, इस फिल्म में अपने गंगूबाई काठियावाड़ी के किरदार में “आलिया भट्ट” को देखा होगा और आलिया भट्ट ने इस फिल्म में गंगूबाई के किरदार में चार चांद लगा दिए हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर गंगूबाई काठियावाड़ी कौन थी और गंगूबाई काठियावाड़ी इतनी मशहूर क्यों हुई|

यदि आप गंगूबाई की असली कहानी को जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल में बने रहिए, इस आर्टिकल में हम गंगूबाई के जीवन परिचय के साथ उनके इतने ज्यादा मशहूर होने के पीछे की कहानी भी आपके साथ साझा करेंगे, इस लेख मैं आपको Gangubai Kathiawadi के बारे में बहुत कुछ जानने को मिलेगा|

Contents show

गंगूबाई काठियावाड़ी कौन थी (Gangubai Kathiawadi Real Story)

गंगूबाई काठियावाड़ी गुजरात प्रदेश के एक नामचीन और पैसे वाले परिवार में जन्मी थी, गंगूबाई काठियावाड़ी का असली नाम गंगा हरजीवनदास था, Gangubai Kathiawadi बहुत ही छोटी उम्र से फिल्मों की दुनिया में आना चाहती थी या अभिनेत्री बनना चाहती थी इसी कारण से वह मुंबई आने की चाह भी रखती थी| 

मीशो क्या है इससे कैसे पैसे कमाते है?

Freelancing से कैसे कमाते है 50 हजार हर महीने?

गंगूबाई काठियावाड़ी का जीवन परिचय (Gangubai Kathiawadi Real Story)

Gangubai Kathiawadi का कोई विस्तार से जीवन परिचय उपलब्ध नहीं है लेकिन S.Hussain Zedi की किताब Mafia Queens of Mumbai के अनुसार जब गंगूबाई 16 साल की थी तो उसे अपने पिता के लिए काम करने वाले रमणीक नाम के शख्स से प्रेम हो गया था लेकिन गंगू बाई के परिवार सदस्य इस रिश्ते से नाखुश थे| 

गंगूबाई काठियावाड़ी के घरवालों द्वारा रिश्ते के लिए ना मंजूरी देने पर गंगा और रमणीक ने भाग कर शादी करने का फैसला किया गंगा और kathiawadi गुजरात से भागकर मुंबई शहर आ पहुंचे और वहां पर उन्होंने शादी की| 

कुछ समय गंगूबाई और रमणीक ने साथ बिताया जिसके बाद एक दिन रमणीक ने गंगूबाई को अपनी मौसी के यहां रुकने के लिए कहा और गंगूबाई को अपनी मौसी के साथ भेजा लेकिन मौसी या वह महिला उसे अपने घर नहीं बल्कि मुंबई के मशहूर रेड लाइट एरिया कमाठीपुरा में ले गयी, असल में गंगा के पति रमणीक ने उसे ₹500 में बेच दिया था| 

गंगूबाई को इस बात का पता लगने के बाद गंगा वापस अपने घर भी नहीं लौट सकती थी क्योंकि वेश्यालय से आई हुई गंगा को उसके घर वाले भी स्वीकार नहीं करते| 

गंगा हरजीवनदास कमाठीपुरा में पहुंचकर गंगू बन गई और धीरे-धीरे उसने अपने हालातों से सौदाकर कमाठीपुरा में रुकने का और वेश्या का काम करने का फैसला किया| 

गंगूबाई काठियावाड़ी मशहूर क्यों हुई 

गंगूबाई के कमाठीपुरा में काम करने के दौरान शौकत खान नाम का एक पठान कमाठीपुरा आया उस पठान ने गंगूबाई काठियावाड़ी के साथ जबरदस्ती और बदसलूकी की और उसके साथ वह बड़ी ही बेरहमी के साथ पेश आया| 

कुछ समय बाद शौकत खान फिर कमाठीपुरा आया और उसने दोबारा गंगूबाई के साथ बदसलूकी और जबरदस्ती की और इस बार गंगूबाई की हालत बहुत ही ज्यादा खराब हो गई और उसे अस्पताल तक जाना पड़ा| 

इस हादसे के बाद गंगूबाई ने ठाना कि वह किसी भी तरह से शौकत खान का पता लगाएगी, गंगूबाई के खोजने पर उसे पता चलता है कि शौकत खान मशहूर डॉन करीम लाला के लिए काम करता था, गंगूबाई करीम लाला से मिलने उसके घर पहुंचती तो करीम लाला ने गंगू से उसके पास आने की वजह पूछी तो गंगू ने शौकत खान की पूरी कहानी करीम लाला को बतायी|

जिसके बाद करीम लाला ने उसे कहा “अब तुम्हें डरने की कोई जरूरत नहीं है, अगली बार जब शौकत खान कमाठीपुरा आए तो मुझे बता देना मैं संभाल लूंगा” करीम लाला की यह बात सुनकर गंगूबाई ने करीम लाला से कहा “मुझे आज तक किसी मर्द ने इतना सुरक्षित महसूस नहीं कराया” और यह बात कहने के बाद गंगू ने करीम लाला को राखी के समान धागा बांधकर उसे अपना राखी भाई बनाया|  

कुछ समय बाद जब शौकत खान दोबारा कमाठीपुरा पहुंचा तो गंगूबाई ने करीम लाला को शौकत खान की जानकारी दी जिसके बाद करीम लाला ने शौकत खान की कमाठीपुरा पिटाई की और उसकी हालत खराब कर दी और करीम लाला ने कमाठीपुरा के सभी लोगों को गंगू मेरी बहन है यह जताया| 

करीम लाला ऐसा करने के बाद कमाठीपुरा में Gangubai Kathiawadi को लोग बहुत ही बड़ा मानने लगे और कुछ समय बाद गंगू ने कमाठीपुरा के घरेलू चुनाव में हिस्सा लेकर जीत हासिल की इसके बाद गंगूबाई काठियावाड़ी मशहूर होने लगी और मुंबई के रेड लाइट एरिया में काम करने वाली सभी महिलाओं के हित में गंगूबाई काठियावाड़ी ने काम किया और उन्हें हर तरह से इंसाफ दिलाने का प्रयास किया| 

गंगूबाई काठियावाड़ी की असली फोटो (Gangubai Kathiawadi Real Pic)

गंगूबाई काठियावाड़ी
image source Republicworld.com

गंगूबाई काठियावाड़ी फिल्म ट्रेलर (Gangubai Kathiawadi Film Trailer)

क्या गंगूबाई काठियावाड़ी जिंदा है?

जी नहीं विकिपीडिया के अनुसार गंगूबाई का जन्म 1939 में हुआ था और 2008 में उनका निधन हो गया था निधन के समय उनकी उम्र 68 से 69 वर्ष की थी| 

गंगूबाई काठियावाड़ी का जन्म कहां हुआ था?

गंगूबाई का जन्म गुजरात के काठियावाड़ में हुआ था और यह एक अच्छे परिवार से थी| 

गंगूबाई काठियावाड़ी का पति कौन था?-Gangubai Kathiawadi Husband

Gangubai Kathiawadi का पति रमणीक था जो  गंगूबाई के पिता के लिए काम करता था| 

गंगूबाई काठियावाड़ी फिल्म कब रिलीज होगी?-Gangubai Kathiawadi Film Release date

गंगूबाई काठियावाड़ी फिल्म 25 फरवरी 2022 को सिनेमा घरों में रिलीज होगी| 

गंगूबाई काठियावाड़ी का किरदार कौन निभा रहा है?

गंगूबाई काठियावाड़ी का किरदार अभिनेत्री आलिया भट्ट निभा रही है| 

गंगूबाई काठियावाड़ी का जन्म कब हुआ था?

विकिपीडिया के अनुसार Gangubai Kathiawadi का जन्म 1939 में हुआ था| 

गंगूबाई काठियावाड़ी की मृत्यु कब हुई?-Gangubai Kathiawadi Death Age

विकिपीडिया के अनुसार गंगूबाई काठियावाड़ी की मृत्यु 2008 में हुई| 

गंगूबाई काठियावाड़ी फिल्म को किसने डायरेक्ट किया?

Gangubai Kathiawadi फिल्म को संजय लीला भंसाली ने डायरेक्ट किया|


मैं उम्मीद करता हूं कि मेरे द्वारा लिखा गया यह गंगूबाई काठियावाड़ी पर लेख आपको पसंद आया होगा इसी, तरह की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट पर आते रहिएगा, इस आर्टिकल में किसी प्रकार कि कोई गलती हो या आपके पास इस आर्टिकल से जुड़ा कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट में जरूर बताएं|

लेख पसंद आया हो तो इसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर जरूर करें|

गंगूबाई काठियावाड़ी के सभी गाने देखने और उनके lyrics(बोल) पड़ने के लिए Click Here

Jitendra Aakdehttps://jitubaba.com
Welcome दोस्तों, मैं jitubaba का Author हूँ. मैं एक Computer Engineer हूँ. मुझे नए नए ज्ञान को प्राप्त करना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मैं आपसे निवेदन करता हु की आप इसी तरह मेरा सहयोग देते रहिये और मैं आपके लिए इसी प्रकार की नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाता रहूँगा| धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here