HomeknowledgeWHO क्या है और कैसे काम करता है, इतिहास, कार्य, उपलब्धिया

WHO क्या है और कैसे काम करता है, इतिहास, कार्य, उपलब्धिया

WHO क्या है(WHO Kya Hai) – हम सभी जानते है कि एक स्वस्थ्य सरीर ही एक बेहतर जीवन की पहचान है, मानव जीवन के लिए सरीर का स्वस्थ्य होना ही एक असली पूंजी मानी जाती है, लेकिन आज के समय में कहीं प्रकार की बीमारियां दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, इन नयी और खतरनाक प्रकार की बीमारियों को समझने मैं ओर इनका इलाज करने में अधिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, इन्ही बीमारियों और उनके इलाज मैं होने वाली कठिनाई को आसान करने के लिए और उन्हें समझने के लिए विश्व मैं WHO की स्थापना की गयी है|

WHO फुल फॉर्म world health organization जिसे हिंदी में विश्व स्वास्थ्य संगठन के नाम से जाना जाता है, कोरोना महामारी के समय में बरते जानी वाली सावधानियां जैसे मास्क पहनना, हाथो को sanitize करना, दूरी बनाए रखना आदि guidelines को WHO के द्वारा ही जारी किया गया है|

WHO अन्तराष्ट्रीय स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं और कार्यो पर निर्देशक एवं समन्वय प्राधिकरण के रूप में कार्य करता है, यह संयुक्त राष्ट्र की एक विसेसज्ञ एजेंसी है जो दुनिया के 194 सदश्य देशो के स्वास्थ्य मंत्रालयों के सहयोग से कार्य करता है साथ ही सभी देशों को तकनीकी सहायता प्रदान करता है तथा स्वास्थ्य संबंधित रुझानों की निगरानी ओर मूल्यांकन करता है।

WHO Kya Hai, WHO काम कैसे करता है, WHO का इतिहास आदि के बारे मैं जानने के लिए आर्टिकल को पूरा जरूर पड़े|

WHO क्या हैWHO in Hindi

WHO यानी कि world health organization यह United Nation की एक एजेंसी है जिसे 1948 मैं स्थापित किया गया था, साथ ही यह एक अन्तराष्ट्रीय संघटन भी है, यह अपने साथ जुड़े देश और विश्व मैं अधिक मात्रा मैं फैलने वाली या कोई नये प्रकार की बीमारी आदि के निवारण और उसकी रोकथाम के लिए कार्य करता है|

विश्व स्वास्थ्य संगठन स्वास्थ्य से जुड़े मामलों में नेतृत्व करना और देशो को Technical support देने के साथ-साथ देशो के Health Trends की भी निगरानी का काम करता है, यह स्वास्थ्य के लिए नये नियम और मानक भी तैयार करता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की नज़र पूरी दुनिया के Health report ओर situation पर रहती है, विश्व स्वास्थ्य संगठन के पास दुनिया का सबसे बड़ा blood bank है, दुनिया की कहीं बीमारियां जैसे हैजा, मलेरिया, चेचक, वायरस, आदि को रोकने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपना महत्वपूर्ण योगदान भी दिया है, यह अधिकतम रूप से मातृ, नवजात, बाल ओर किशोर स्वास्थ्य, एपेडेमिक कन्ट्रोल और हेल्थ के सोशल Determinants ओर Emergency situation पर काम करता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन अब तक 10 जानलेवा बीमारियों की पहचान कर चुका है, यह एक संगठन है जो पूरी दुनिया के लोगो की Health monitor करती है और नई-नई बीमारियों की खोज कर उनके लिए इलाज तैयार करती है और गाइडलाइन्स भी तैयार करती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO Kya Hai) के 194 देशो में 150 आफिस है और पूरे organization मैं करीब 7000 कर्मचारी काम करते है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन का इतिहास History of WHO

विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना 7 April 1948 की गयी थी जिसे विश्व स्वास्थ्य दिवस के रूप मैं मनाया जाता है, स्थापना के बाद सर्वप्रथम स्माल पॉक्स बीमारी को खत्म करने में WHO ने अहम भूमिका निभाई।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के संविधान पर 22 जुलाई 1946 को संयुक्त राष्ट्र के सभी 51 देशों और 10 अन्य देशों ने हस्ताक्षर किए थे, विश्व स्वास्थ्य संगठन की पहली बैठक 24 जुलाई 1948 को समाप्त हुई जिसमें वर्ष 1949 के लिए 5 million अमेरिकी डॉलर का बजट हासिल किया गया था।

स्थापना के समय G. Brock Chisholm को विश्व स्वास्थ्य संगठन का महानिदेशक नियुक्त किया गया था, जिन्होंने कार्यकारी सचिव के रूप में भी कार्य किया|

WHO की पहली प्राथमिकताओं मैं तपेदिक, मलेरिया ओर योन संचारित संक्रमणों को नियंत्रित्र करना और मातृ एवं सिसु स्वास्थ्य, पोषण, ओर पर्यावरण स्वच्छता पर ध्यान केंद्रित करना था, WHO का LOGO रॉड ऑफ एसकल्पीयस को उपचार के रूप मे दर्शाया गया है|

विश्व स्वास्थ्य संगठन ऐतिहासिक यात्रा

पहले दशक(1948-1958)– पहले दशक में WHO ने संक्रामक रोगों पर ध्यान केंद्रीत किया जो की अधिकतर मात्रा मैं  विकासील देशो में होते थे और इनके निवारण और इनकी रोकथाम में भी योगदान दिया।

दूसरा दसक(1958-1968)– दूसरे दसक में WHO ने रिवर ब्लाइंडनेस ओर सिस्टोसोमियासिस के रोगवाहक के विरुद्ध विश्व रासायनिक उद्योग के साथ मिलकर किटनासक तैयार किये।

तीसरा दसक(1968-1978)– तीसरे दसक में WHO ने विशाल अभियान द्वारा वैश्विक स्तर पर बच्चो को प्रभावित करने वाले 6 रोगों डिप्थीरिया, टिटनेस, काली खांसी, खसरा, पोलियोमैलाइटिस एवं क्षयरोग के प्रति टीकाकरण किया और चेचक जैसी बड़ी बीमारी को हारने मैं नेतृत्व किया और साथ ही चेचक उन्मूलन में बड़ी सफलता प्राप्त की|

चौथा दसक(1978-1988)- WHO ओर यूनिसेफ ने वृहद वैश्विक सम्मेलन सहर ‘अल्मा आता’ में आयोजित किया जिसमें प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल, निवारक एवं उपचारात्मक उपायों के महत्व पर बल, वर्ष 2000 तक सभी के लिए स्वास्थ्य अन्तराष्ट्रीय पेयजल आपूर्ति एवं स्वच्छता ओर ओरल Rehydration थेरेपी द्वारा सम्पूर्ण विश्व मे सिसुओ में होने वाली डायरिया नामक बीमारी पर नियंत्रण किया।

1977 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ओर कनाडा ने मिलकर ग्लोबल पब्लिक हेल्थ इंटेललिंजेन्स नेटवर्क का प्रसारण किया जिसमें इंटरनेट तकनीक का उपयोग कर दुनिया के किसी क्षेत्र में फैलने वाली बीमारी की जानकारी विश्व भर में आसानी से फैलाई जा सके।

विश्व स्वास्थ्य संगठन का एक Research ओर डेवलोपमेन्ट पक्ष भी काम करता है और WHO को Advice भी करता है जिसे अनुसंधान एवं विकास ब्लूप्रिंट कहते है, यह बीमारियों और उनके कारको की पहचान करता है और उसकी सूचना सभी देशों को प्रदान करता है, इसकी सहायता से अब तक इबोला, जीका, निपाह, coronavirus ओर गंभीर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम(SARS) आदि का भी पता लगाया जा चूका है|

WHO ने 1986 में HIV/AIDS पर अपना वैश्विक कार्यक्रम शुरू किया, दो साल बाद पीड़ितों के खिलाफ भेदभाव को रोकने के लिए UNAIDS का गठन भी किया किया, विश्व स्वास्थ्य संगठन की डेंगू नियंत्रण नीति का उद्देश्य वर्ष 2020 तक डेंगू से होने वाली मौतों को 50 परसेंट तक कम करना है|

विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्य / उद्देश्य

विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO Kya Hai) के संविधान में कहा गया है कि इसका मुख्य उद्देश्य – “सभी लोगो द्वारा स्वास्थ्य के उच्चतम स्तर की प्राप्ति है”

  • दुनिया भर की स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत बनाना तथा स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का निवारण करना।
  • विश्व मे पोषण, आवास ओर स्वच्छता के कार्य करना और उसे बढ़ावा देना।
  • स्वास्थ्य से संबंधित मानदंड ओर मानक स्थापित करना और उनके कार्यो को अग्रसर कर उनकी निगरानी करना।
  • सभी देशों की स्वास्थ्य स्थिति का आकलन करना और उनकी स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने के लिए सरकार की सहायता करना।
  • सरकारो के अनुरोध करने पर या स्वीकृति देने पर उपयुक्त तकनीकी सहायता और आपातकालीन स्थिति मे आवश्यक सहायता प्रदान करना।
  • वैज्ञानिकों और पेशेवर समूहों को निर्देशित करना, उन्हें बढ़ावा देना और उनकी प्रगति में योगदान करना।
  • सम्मेलनों समझौतों ओर विनिमयो का प्रस्ताव करने के लिए ओर अन्तराष्ट्रीय स्वास्थ्य मामलों के सिफारिस ओर प्रदर्शन करना।

विश्व स्वास्थ्य संगठन का संचालन

विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO Kya Hai) का संचालन विश्व स्वास्थ्य सभा के सदस्यों की निगरानी में किया जाता है, यह सभी सदस्य 192 देशो द्वारा भेजे गये प्रतिनिधि होते है, विश्व स्वास्थ्य सभा द्वारा एक कार्यपालक दल का चुनाव किया जाता है तथा उस दल के किसी एक व्यक्ति को चुनाव कर संगठन का निर्देशक बनाया जाता है, WHO के निर्देशक के कार्यकाल कुल 5 वर्ष का होता है।

विश्व स्वास्थ्य सभा विश्व स्वास्थ्य संगठन ओर राष्ट्रों के बीच होने वाले समझौते में सामाजिक और आर्थिक परिषद का आकलन करता है, साथ ही विश्व स्वास्थ्य सभा विश्व स्वास्थ्य संगठन के लिए बजट, नीतियों का निर्धारण आदि की जिम्मेदारी निभाता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यक्रम

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा निम्नलिखित कार्यक्रमों के माध्यम से स्वास्थ्य सुधार तथा पोषण स्तर में वृद्धि का प्रयास किया जाता है-

1. स्वास्थ्य- शिक्षा।
2. भोजन, खाद्य सुरक्षा और पोषण।
3. स्वछ जल एवं आधारभूत स्वच्छता।
4. टीकाकरण।
5. स्थानीय, रोगों की रोकथाम तथा उपचार।
6. सामान्य बीमारियों तथा घावों का इलाज।
7. अनिवार्य दवाइयों की उपलब्धता इत्यादि।

विश्व स्वास्थ्य संगठन और भारत

12 जनवरी 1948 को भारत विश्व स्वास्थ्य संगठन का सदस्य बना था|

चेचक(Small Pox)

1967 में विश्व की कुल संख्या के 65% मरीज भारत में चेचक के थे, वर्ष 1967 में ही डब्ल्यूएचओ ने गहन चेचक उन्मूलन कार्यक्रम (ISEP)प्रारंभ किया डब्ल्यूएचओ और भारत सरकार के प्रयास से 1977 में चेचक का उन्मूलन किया गया।

पोलियो(Polio)

डब्ल्यूएचओ द्वारा 1988 में विश्व बैंक की वित्तीय एवं तकनीकी सहायता से प्रारंभ वैश्विक पोलियो उन्मूलन पहल पर कार्य किया गया ओर पोलियो अभियान 2012 के तहत सभी 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों को पोलियो से बचाव हेतु टीका लगाया गया ओर इसी कारण से 2014 तक भारत एंडेमिक देशो की सूची से बाहर हो गया।

गैर संक्रामक रोग(Non infectious diseases)

मधुमेह, केंसर एवं हृदय रोग यह गैर संक्रामक बीमारियां हैं जिनसे 70% से अधिक लोगों की मौत होती है, डब्ल्यूएचओ के अनुसार इन लोगों में पांच प्रमुख कारण जिनसे मृत्युदर बढ़ती है जिसमे तंबाकू का सेवन, शारीरिक निष्क्रियता, शराब का अविवेकपूर्ण उपयोग, अस्वस्थ आहार एवं वायु प्रदूषण है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की उपलब्धिया

21 वी शताब्दी के अंत तक हुए आर्थिक विकास और वैज्ञानिकों के परिश्रम से दुनिया में स्वास्थ्य के मामलों में अत्यधिक सुधार देखने को मिला इस सुधार को अधिकतम ऊंचाई तक पहुंचाने में WHO ने अहम भूमिका निभाई।

  • चेचक पोलियो जैसी प्राचीन घातक बीमारी का प्रभाव खत्म होने की कगार पर है|
  • आयोडीन की कमी से होने वाली बीमारियों को दूर करने के लिए आयोडीन युक्त नमक का उपयोग करने की पहल की|
  • अधिक जनसंख्या वाले राष्ट्रों में जनसंख्या वृद्धि में कमी हुई|
  • शिशु मृत्यु दर भी प्रति हजार में 148 से घटकर 59 पर पहुंच गई|
  • 1955 में जीवन प्रत्याशा 48 थी, 1985 में बढ़कर 59 पर पहुंच गई|

विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना कब हुई?

7 अप्रैल 1948 मैं विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना हुई, स्थापना के बाद से ही प्रत्येक 7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य दिवस के रूप मैं मनाया जाता है|

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अंतर्गत कुल कितने राष्ट्र हैं?

194 सदस्य देश तथा दो संबद्ध सदस्य देश विश्व स्वास्थ्य संगठन के अंतर्गत आते है|

WHO का सदस्य भारत कब बना?

12 जनवरी 1948 को भारत विश्व स्वास्थ्य संगठन का सदस्य बना|

WHO का मुख्यालय कहाँ है?

जिनेवा, स्विट्ज़रलैंड (Geneva, Switzerland) मैं विश्व स्वास्थ्य संगठन का मुख्यालय है|

विश्व स्वास्थ्य संगठन का प्रतीक चिन्ह कौन सा है?

WHO प्रतीक चिन्ह में रॉड ऑफ एसकल्पीयस है जो की एक सर्प द्वारा लिपटी हुई छड़ी है, यूनान में साँपो को पवित्र माना जाता है वहाँ एक प्राचीन यूनानी चिकित्सक थे जिन्हें उपचार के देवता के रूप में भी जाना जाता था|

Jitendra Aakdehttps://jitubaba.com
Welcome दोस्तों, मैं jitubaba का Author हूँ. मैं एक Computer Engineer हूँ. मुझे नए नए ज्ञान को प्राप्त करना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मैं आपसे निवेदन करता हु की आप इसी तरह मेरा सहयोग देते रहिये और मैं आपके लिए इसी प्रकार की नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाता रहूँगा| धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here